Dua e Qunoot In Hindi – दुआए क़ुनूत

दोआ कुनुत (Dua e Qunoot) सबसे मूल्यवान प्रार्थनाओं में से एक है। विटारो की नमाज़ में दोआ कुनुत पढ़ना अनिवार्य है। विटारो नमाज़ की तीसरी रकअत में सूरह फातिहा के साथ सूरह पढ़ने के बाद इसे पढ़ना है। इस प्रार्थना के द्वारा अल्लाह के लिए महत्वपूर्ण आवेदन प्रस्तुत हैं। लेकिन दुर्भाग्य से हम में से बहुत से लोग दोआ कुनुत का पाठ नहीं कर सकते। आपकी सुविधा के लिए, मैं दोआ कुनुत बांग्ला के महत्व को इसके उच्चारण और अर्थ और आसान सीखने के नियमों के साथ उजागर करूंगा, जो निस्संदेह आपको फायदा पहुंचाएगा इंशाअल्लाह।

Dua e Qunoot in Arabic

اَللَّهُمَّ اِنَّ نَسْتَعِيْنُكَ وَنَسْتَغْفِرُكَ وَنُؤْمِنُ بِكَ وَنَتَوَكَّلُ عَلَيْكَ وَنُثْنِىْ عَلَيْكَ الْخَيْرَ وَنَشْكُرُكَ وَلاَ نَكْفُرُكَ وَنَخْلَعُ وَنَتْرُكُ مَنْ يَّفْجُرُكَ-اَللَّهُمَّ اِيَّاكَ نَعْبُدُ وَلَكَ نُصَلِّىْ وَنَسْجُدُ وَاِلَيْكَ نَسْعَى وَنَحْفِدُ وَنَرْجُوْ رَحْمَتَكَ وَنَخْشَى عَذَابَكَ اِنَّ عَذَابَكَ بِالْكُفَّارِ مُلْحِقٌ

दुआ-ए-क़ुनूत हिंदी – Dua e Qunoot In hindi

अल्लाहुम्मा इन्ना नस्तईनुका व नस-तग़-फिरू- का व नु’अ मिनु बि-का वना तवक्कलु अलै-का व नुस्नी अलैकल खैर * व नश कुरु-का वला नकफुरु-का व नख्लऊ व नतरुकु मैंय्यफ-जुरूक * अल्लाहुम्मा इय्या का न अ बुदु व ला का नुसल्ली व नस्जुदु व इलैका नस्आ व नह-फिदु व नरजू रह-म-त-क व नख्शा अज़ा बका इन्ना अज़ा-बका बिल क़ुफ़्फ़ारि मुलहिक़ *

दुआ-ए-क़ुनूत का तर्जुमा – Dua e Qunoot ka Tarjuma

ऐ अल्लाह, हम तुझ से मदद चाहते हैं ! और तूझ से माफी मांगते हैं तुझ पर ईमान रखते हैं और तुझ पर भरोसा करते हैं ! और तेरी बहुत अच्छी तारीफ करते हैं और तेरा शुक्र करते हैं और तेरी ना सुकरी नहीं करते और अलग करते हैं और छोड़ते हैं, इस शख्स को जो तेरी नाफरमानी करें.

ऐ अल्लाह, हम तेरी ही इबादत करते हैं और तेरे लिए ही नमाज़ पढ़ते हैं और सजदा करते हैं और तेरी तरफ दौड़ते और झपटते हैं और तेरी रहमत के उम्मीदवार हैं और तेरे आजाब़ से डरते हैं, बेशक तेरा आजाब़ काफिरों को पहुंचने वाला है.

Read More: Surah Muzammil with English Translation and Transliteration

दुआए क़ुनूत (Dua e Qunoot) याद नहीं हो तो क्या पढ़े ?

ईशा की नमाज के बाद तीन रकअत तक वित्र की नमाज अदा करनी होती है। और इस नमाज़ में क़ुनूत पढ़ना ज़रूरी है। नमाज़ में क़ुनूत की जगह तीन बार सूरह इखलास पढ़ना जायज़ नहीं है। क्योंकि, सूरह इखलास कुनूत या दोआ युक्त सूरह नहीं है। वित्र की नमाज़ में क़ुनूत का मकसद नमाज़ अदा करना है। इस मामले में, यदि विशिष्ट प्रार्थना के अलावा कोई अन्य प्रार्थना पढ़ी जाती है, तो वाजिब पूरी होगी और नमाज़ वैध होगी। और केवल जब तक याद न हो जाए तब तक दुआए क़ुनूत की जगह ये दुआ पढ़ना चाहिए।

رَبَّنَا آتِنَا فِي الدُّنْيَا حَسَنَةً وَفِي الآخِرَةِ حَسَنَةً وَقِنَا عَذَابَ النَّارِ

हिन्दी में: रब्बना आतिना फिद दुनिया हसनतव वफिल आखिरति हसनतव वकिना अज़ाबन नार

English: Rabbana Aatina Fid-Dunya Hasanatanw Wa-fil Aakhirati Hasanatanw Waqina Azaaban Naar

तर्जुमा- ऐ हमारे रब्ब हमें दुनिया में नेकी और आख़िरत में भी नेकी दे और हमें दोज़ख ले अज़ाब से बचा।

Dua e Qunoot in English

Allah humma inna nasta-eenoka wa nastaghfiruka wa nu’minu bika wa natawakkalu alaika wa nusni alaikal khair, wa nashkuruka wala nakfuruka wa nakhla-oo wa natruku mai yafjuruka, Allah humma iyyaka na’budu wa laka nusalli wa nasjud wa ilaika nas aaa wa nahfizu wa narju rahma taka wa nakhshaa azaabaka inna azaabaka bil kuffari mulhik.

Tarjuma: Ay Allah hum tuj se madad chahte hain aur tujh se bakhshish mangte hain aur tujh par imaan laate hain aur tujh par bharosa rakte hain, aur teri bahut acchi tareef karte hain aur tera shukar karte hain aur teri na shukri nahi karte hain aur alag karte hain aur chodhte hai us shakhs ko jo teri na farmaani karte hai hain Aye Allah hum teri ibaadat karte hain aur teri hi liye namaaz padhte hain aur sajda karte hain aur teri hi taraf daurte hain aur khidmat ke liye hazir hote hain aur teri rahmat ke umeed waar hain aur tere azaab se darte hain bashak tera azaab e haq kafiroon ko milne wala hai.

Related Articles

Popular Now

Categories

ABOUT US

Dainikchorcha.com is a blog where we post blogs related to Web design and graphics. We offer a wide variety of high quality, unique and updated Responsive WordPress Themes and plugin to suit your needs.

Contact us: [email protected]

FOLLOW US